प्यासी औरत की चुदाई

प्यासी औरत की चुदाई (Hindi Sex Story. Pyasi Aurat Ki Chut Chudai Pyas Bujhai) प्यासी औरत की चूत चुदाई की प्यास बुझाई.

Pyasi Aurat Ki Chudai

प्यासी औरत की चुदाई

जब मैं अपने चुदाई की फिर एक सच्ची कहानी लिख रहा हुँ तो मेरा खड़ा लंड उस चुदाई और प्यार की भूखी औरत के बुर को याद कर खड़ा होकर मेरी चुदास भाभियों की पुदी और चुदास भाइयों के लंड को नमस्कार कर रहा है।दोस्तों मैं शादी से पहले चुदाई के तरसता था लेकिन रोज एक या दो बार लवड़ा घोट के बीज निकाल कर शांत होजाता था। मेरे लवड़ा घोटने के टाइम मैं अपने चाचियों, बुआ लोगो और मेरे दो क्लास टीचर की बुर चोदने की कल्पना कर बीज गिराता था और यकीन मानिए लवड़ा में बहुत गुद गुदी होकर वीर्य निकलता था। तब चुदाई के आनंद का पता ही नहीं था। 16-17 साल की उम्र से आजतक एक भी दिन  बिना बुर चोदे  या बिना लवड़ा घोटे मैं नहीं रह पाया हूँ। पता नहीं भगवान ने इतना चुदक्कड मुझे क्यों बनाया जब उसे मूझे  रोज बुर चोदने के लिए देना नहीं था। उस सुंदर भाभी की बीवी की तरह लगातार चुदाई के बाद मैं शादी के बिना ही शादी शुदा की तरह रोज बुर चोदने बुर चाटने, लवड़ा चुसवाने की आदि होगया। मेरी शादी होगयी तो बीवी के बुर को लगातार चोद कर भोसड़ा बना दिया। बीवी ने खुद बोला कि मेरी पुदी कितनी सुंदर पिंक थी उसे चोद चोद कर भोसड़ा बना दिये और टीटा काला कर दिये। मेरे सहेलियों के पति उन्हें हफ्ते में 2-3 बार चोदते हैं और आप रोज दो तीन बार चोदते हो आप सामान्य आदमी नही हो। खैर वो बोलती रही और मैं चोदता रहा। बुरा तब हुआ जब हम दोनो को अलग रहना पड़ा।

Pyasi Aurat Ki Chut Chudai

प्यासी औरत की चुदाईदो तीन महीने तो बीच बीच मे बीवी के पास जाकर उसकी पुदी चोद कर काम चलाया पर मेरे लिये एक भी दिन बुर चोदे बिना रहना मुश्किल हो रहा था। तो जैसा मैंने बताया कि अपनी कुआंरी नौकरानी और उसकी भाभी की पुदी चोद कर मजे से रहा। फिर नौकरानी की शादी होगयी और मैं फिर बुर चोदने के लिए परेशान रहने लगा। तब मैंने अपने मित्र से बात की तो उसने अपनी बीवी को बताया। उसकी बीवी ने मुझे एक औरत का नम्बर दिया जिसके पति बाहर रहते हैं  और 4-6 महिने में घर आते हैं। उस से मैंने दोस्ती की फिर उसके घर गया। वो 38 यर्स की सावली लेकिन मस्त माल है जिसके दूध 38 साइज के हैं। मुझे सावली औरत चोदने की बहुत इच्छा थी अभी तक मैं एकदम गोरी ही बुर चोद पाया था। खासकर वो बिल्कुल मेरी साली के कलर और फिगर की लेडीज थी जिस साली की पुदी को चाट कर चोदने की मैं सपने देखता हूं । मैं उसे मिलकर खुश होगया। उस समय उसके बच्चे स्कूल गए थे पर उसकी माँ थी। कुछ देर बात करने के बाद उसकि मा घर के काम मे लग गयी मैं उठा और उसे किस कर उसका दूध दबाने लगा। मैं सोचा वो मना करेगी। पर उसने बोला दरवाजा खुला है मैं पहले दरवाजा बंद कर देती हूँ। तबतक मैं अपना लवड़ा बाहर निकाल लिया। मेरा लवड़ा देखकर वो मुस्कुरा दी। तो मैंने उसे अपनी तरफ खिंचकर अपना लवड़ा उसके हाथ में पकड़ा दिया। तो वो बिना बोले मेरे लवड़ा को सहलाने लगी। मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि पहली बार में ही वो चुदने के लिए तैयार बैठी थी। कितनी मजबूरी होती है शादी के बाद किसी औरत या पुरुष का बिना चुदाई के रहना। फिर क्या था मै उसके दूध को उसके टॉप से बाहर निकाल कर चुसने लगा और बुर को उसकी चड्ढी के ऊपर से सहलाने लगा। वो एकदम मदहोश होकर हाथ पैर ढीली कर दी मुझे लगा गिर जाएगी तो उसे बिस्तर पर लिटा कर उसकी चड्ढी नीचे खींच दिया। बुर एकदम साफ थी शायद सुबह ही अपने बुर की बाल साफ की थी। मैंने देर करना उचित नही समझा अपने जेब से निरोध निकाल कर लवड़ा में चढ़ाया और उसकी पुदी में घुसा दिया। लवड़ा आसानी से उसके गीले बुर में घुस गया।

प्यासी औरत की चुदाई

Submit Your Story : https://www.sexstorian.com/submit-your-story/

मै उसके निप्पल्स को चुसते हुए उसके भोसड़ा को चोदने लगा। वो आंखे बंद कर आह आह कर के चुदने लगी। मुश्किल से 2 मिनट में वो झड़ कर मुझसे लिपट गई। मैं बोला मेरा तो नही हुआ तो वो बोली 2 मिनट रुक कर चोदो मेरा बुर एकदम गुद गुदी होरही है। मुझे पूरा झड़ने दो। फिर मैं धीरे उसे चोदने लगा और फिर स्पीड बढ़ाकर उसके बुर का भोसड़ा बनाने लगा तो उसकी पुदी से पच पच की आवाज आने लगी। मेरा भी अब बीज निकलने वाला था। तो मैं लवड़ा बाहर निकाल कर उसकी पुदी के ऊपर अपना बीज गिरा दिया। फिर हम बातें करने लगे तो मैंने पूछा कि तुम्हारी माँ घर पर है तो उसे समझ आया होगा कि मैं तुम्हे अंदर बंद दरवाजे के पीछे चोद रहा होऊंगा। तो बुरा नही मानेगी। तो बतायी की उसके पापा बहुत पहले मर गए थे। उसकी माँ जवानी पूरा पति के बिना बितायी है। तो उसे भी पता है चुदाई की तड़प क्या होती है। वो तो रोती है कि तेरा भी किस्मत खराब है पति के रहते हुए तो पुरुष के बिना रह रही है। आपका pic मैने उन्हें दिखाकर बताया था कि इनसे मैं दोस्ती करना चाहतीं हूँ। तो वो बोली तू उनसे घर मे ही मिलना जब मैं रहूंगी। वो आने से मै कही काम मे लग जाऊंगी। इस से कोई शक नही करेगा। तू अपनी ज़िंदगी जी अपने उस चूतिया पति की परवाह मत कर। फिर क्या था मेरे तो भाग्य खुल गए।

प्यासी औरत की चुदाई – Hindi Sex Story

प्यासी औरत की चुदाईमैं अब नंगा ही बाथरूम जाकर लवड़ा को धोया जो attached नही था। वो भी अपना बुर धोयी। फिर मैं उसे चूमने लगा वो मेरा लवड़ा सहलाने लगी। पर लवड़ा पूरा खड़ा नही होरहा था तो मै उसे बोला कि मुह से चूस तो खड़ा होगा। मेरे उम्मीद से ज्यादा वो मेरे आंड को भी चाटने लगी, मेरे गांड के छेद के पास भी चाटने लगी और मेरे लवड़ा को चूमने और चुसने लगी। अनुभवी थी मुझे ज्यादा बोलना नही पड़ा मैन उसे पूरा नंगा करके उसे पीछे पलट कर पीछे से बुर चोदने लगा( मुझे सुंदर भाभी ने बताया था उल्टा लिटा कर पीछे से बुर चोदने में औरत को ज्यादा मजा आता है । फिर उसकी जी भर के चुदाई किया। फिर हम बाहर आये तो उसकी माँ ने ऐसे रियेक्ट किया कि मैं उसका दामाद हु और उसकी बेटी को बेडरूम में प्यार कर रहा था। उसने चाय बना के पिलाई और बोली कि समय निकाल कर आया करो। तब से मैं हर हफ्ते 3-4 बार उसके यहाँ जाता हूं। दोनों बेडरूम में घुस जाते हैं, वो मेरे पैर से लेकर सिर तक को चूमती और चाट ती है, लवड़ा को चूसती है, दूध के बीच लवड़ा को दबा कर दूध को चुद वाती है निप्पल्स से लवड़ा को रगड़ती है और बहुत आराम से 1-2 बार चुदती है फिर हम दोनों पति पत्नी की तरह बिना शर्म के बाहर आते हैं। उसकी माँ हम दोनों को चाय पिलाती है। मै फिर अपने घर आजाता हु। अभी उसकी पुदी ओर बीवी की पुदी से मेरा चुदाई का भूख शांत होजारहा है। ये कहानी बिलकुल सच्ची है। आप सभी मुझे अपने फीडबैक मेरे ईमेल पर जरूर भेजे. jayeshstories@gmail.com.

यह कहानी आपको कैसा लगा जरूर बताये हमारा पता है : jayeshstories@gmail.com

जयेश शर्मा

3.2/5 - (4 votes)

error: Content is protected !!