दोस्त की बीवी की चुदाई की कहानियाँ – Dost Ki Biwi Chudai ki Kahani

दोस्त की बीवी की चुदाई की कहानियाँ

दोस्त की बीवी की चुदाई की कहानियाँ – Dost Ki Biwi Ki Chut Chudai ki kahani. Sex stories about fucking friend’s wife. दोस्त की बीवी को पटाकर चोदकर बनाया बाप.

दोस्त ने दिया बच्चा !

मेरा नाम राहुल है, मैं आगरा का रहने वाला हूं, मेरी हाईट 5.8 इंच और रंग गोरा है, मेरी ओर शालू की शादी को 4 साल हो चुके है, हम दोनो एक दूसरे से बहुत प्यार करते है, खूब सेक्स भी करते है, मेरा लंड 5 इंच लंबा और करीब 2.5 इंच मोटा है, मेरी वाइफ शालू बेहद ज्यादा खूबसूरत, 5.5 इंच हाइट, परफेक्ट शेप की बॉडी वाली, हेवी बॉटम और बड़े ही सेक्सी बूब्स वाली कातिल सुंदर है। हम दोनो अपनी सेक्स लाइफ से भी संतुष्ट है, लेकिन हमारा कोई बच्चा नहीं है।

Dost Ki Biwi Chudai ki Kahani

2 साल पहले Dr से चेक करवाने के बाद पता चला, की मैं कभी बाप नही बन पाऊंगा । लेकिन ये बात हम दोनो ने अपने घर वालों को नही बताई। समय निकलता गया घर वाले पूछते तो हम कह देते अभी शालू भी नौकरी की तयारी कर रही है, उसकी पढ़ाई खराब हो जायेगी, ये वो बहाने करके तल देते। आपको ये कहानी कैसे लगी नीचे दिए मेल पे हमें जरूर बताये Dost Ki Biwi Chudai ki Kahani.

हम दोनो मिलकर खूब पोर्न देख देख कर चुदाई करते थे, और एक दूसरे के साथ खूब खुल चुके थे। कुछ महीने पहले मुझे एक अजीब आइडिया आया। मेने शालू से कहा की अगर हम किसी क्लिनिक की सहायता से बच्चा प्लान करते है तो पता नही बच्चा किसके जैसा होगा और बार बार उस क्लिक जाने से घर वालों को भी पता चल सकता है, इसलिए क्यों न हम किसी दूसरे की सहायता से बच्चा प्लान कर ले।

शालू बोली दूसरे की सहायता से कैसे, तो मैने उसे कहा की क्यों न हम किसी दोस्त या अजनबी की सहायता से बच्चा प्लान कर लेते है, तो या नेचुरल भी होगा और बाद में किसी भी हॉस्पिटल में चेक करवाते रहेंगे तो घर वालों को भी शक नहीं होगा और सब कुछ नोर्मल रहेगा, बस तुम्हे एक दो दिन किसी और को देनी होगी।

Dost Ki Biwi Ki Chut Chudai ki Kahani

आप पढ़ रहे है मेरी कहानी जिसका सीर्सक है Dost Ki Biwi Ki Chut Chudai ki Kahani : पहले तो शालू को यह अजीब सा लगा, लेकिन 2,4 दिन बाद एक दिन शालू बोली, वैसे हमारे पास दूसरे के स्पर्म से अलावा कोई ऑप्शन भी तो नहीं है। पर मैं किसी दूसरे के साथ कैसे करूंगी, और किसी दूसरे इंसान पर हम कैसे भरोसा कर सकते है। तो मेने मजाक में बोला की जिस बात डर होता है, वही तो हम करने जा रहे है, इससे ज्यादा हो भी क्या सकता है । तो शालू वाली नही अगर उस इंसान ने किसी को बता दिया तो?

तो मेने बोला की हम कोई दूर का इंसान चुनते है। तुम बोलो तो मेरा दिल्ली में एक अच्छा फ्रेंड है, मैं उससे बात कर सकता हु या फिर हम इंटरनेट पे कोई इंसान ढूंढ लेते है। तो शालू बोली की देखेंगे और बात को टाल दिया।

फिर कुछ दिन बाद मेने शालू से पूछा की क्या सोचा, तो उसने बोला की क्या बताऊं, मुझे तो कुछ समझ में नहीं आ रहा है और वैसे भी ऐसा विश्वशमंद इंसान कहा मिलेगा ये वो।

तो एक दिन मेने उसे अपने उस दिल्ली वाले फ्रेंड की कुछ पिक दिखाई और बोला की ये लड़का कैसे लगा तुम्हे। तो शालू बोली की लड़का तो हैंडसम दिखता है, लेकिन यह है कोन, तो मेने उसे बताया की यह रोहित है, वही दिल्ली वाला फ्रेंड, जिसके बारे में मेने तुम्हे बताया था। तो वो बोली लड़का तो अच्छा दिख रहा है। तो मेने शालू को छेड़ते हुए कहा की, अच्छा भी है और डायवोर्स भी हो चुका है इसका, कहा तो हमारे साथ साथ उसका भी कुछ भला हो जायेगा, तो शालू ने मुझे धक्का मरते हुए बोला रहने दो तुम तो।

तो फिर मैं इससे बात कर लू क्या, मेने पूछा? तो उसने बोला मुझे नही पता और शर्मा के वहा से चली गई।

मैं समझ चुका था की कि शालू को रोहित पसंद आ गया।

फिर एक दो दिन रुक कर मेने रोहित से बात की, उससे हाल चाल पूछा, तो उसने बताया की जब से उसकी वाइफ गई है तब से उसे एक पप्पी तक नसीब नहीं हुई, बस जवानी खराब हुई जा रही है

तो मैने उससे कहा की, अगर तू मेरी एक मदद कर पाए तो मैं तेरा एक जुगाड़ करवा सकता हु। तो उसने बोला की यार जुगाड़ हो न हो पर तू मेरा दोस्त है बता क्या मदद चाहिए?

तो मैने उसे सारी स्टोरी सुनाई और बोला हम मनाली चलते है 3 दिन के लिए और इस बहाने हमारी लाइफ बन जायेगी और तेरे भी 3 दिन अच्छे हो जायेंगे। पहले तो वो थोड़ा नाराज हुआ, पर फिर मेरे समझने पे आखिर वो मन गया।

एक वीक बाद का हमने घरवालों को घूमने का बोलकर, मनाली में एक बड़ा और शानदार सा होटल रूम बुक कर लिया, और रोहित को सीधा मनाली आने को बोला दिया।

फिर हम दोनो तयारी में जुट गए, मेने पूजा से बोला की वो मैनीक्योर पेडीक्योर करवा ले, और मैं उसके लिए 2,3 ब्लैक और रेड कलर की बहुत ही सेक्सी और शॉर्ट फ्रॉक टाइप ड्रेस खरीद लाया।

वो भी ऊपर नीचे के सब बाल साफ करके साफ करके एक दम चिकनी हो गई थी, इतनी चिकनी तो वो सुहागरात पर भी नही थी।

फिर 25 नवंबर को हम मनाली के लिए रवाना हुए और 26 को सुबह पहुंच गए, वहा पहुंच कर देखा तो ठंड का आलम हद से बाहर चल रहा था।

दोपहर तक रोहित भी मनाली पहुंच गया। हम दोनो उससे माल रोड पर मिले, वो मेरे गले लगा और शालू को देखते ही उसकी हाय अपने आप निकल गई, फिर उसने खुद को संभालते हुए बोला की भाभी जी राहुल तो क्या किस्मत वाला है, आप तो किसी कयामत से कम नही हो।

शालू भी मुस्कुरा दी

फिर हम शाम तक इधर उधर मनाली देखते रहे और शाम को मैं एक “बकार्डी” की बॉटल और शॉट्स वाले 3 गिलास ले आया और साथ ने खाने के लिए ड्राय फ्रूट्स वागरा ले लिए।

रात को हमने खाना वगैरा ऑर्डर करके शॉट्स लगाने शुरू कर दिए। जब तक खाना आया, हम टीवी देखते देखते ऑलमोस्ट बोतल खतम कर चुके थे।

थोड़ी देर में खाना खाने के बाद मैं और रोहित बालकनी में आ कर चेयर्स पर बैठ गए, शालू रजाई में बैठ कर टीवी देख रही थी।

वहा बैठे बैठे रोहित ने कहा यार भाभी जी तो बहुत ही ज्यादा सुंदर और हॉट है, मेरा तो कॉन्फिडेंस की जवाब दे गया है।

तो मेने कहा तू ही कह रहा था, तूने कई साल से एक पप्पी तक नही ली फिर अब क्या हुआ, तो उसने बोला यार ऐसा नहीं है लेकिन तेरी वाइफ किसी सेलिब्रेटी जैसी है…..

कुछ देर बातें करने के बाद हम लोग ठंड के कारण ठिठुर गए, और हम लोग रूम में आ गए और बेड कर रजाई ओढ़ कर खुद को गर्म करने लगे। और शालू चेंज करने चली गई।

हम रजाई में टीवी देखेने लगे, तो टीवी में भी सर्दी का ऑरेंज अलर्ट हो चुका था। थोड़ी देर बाद शालू चेंज करके वापस निकली तो मेरी और रोहित के दोनो की आंखे फटी की फटी रह गई। शालू ब्लैक कलर वाला शॉर्ट फ्रॉक टाइप वाला सूट पहने हुए ठिठुरते हुए बाहर निकली, वह बेहद गोरी थी और ब्लैक ड्रेस में उसकी गोरी गोरी टाइट थाईज और उसके बूब्स जो डीप नेक और साइड से थोड़े थोड़े दिखाई दे रहे थे, शायद उसने आज पैंटी भी नही पहनी थी, वह वाकई किसी कयामत से कम नही लग रही थी।

फिर शालू मेरी रजाई की बढ़ी और कहा की मुझे भी घुसने दो, तो मेने बोला की आज तुम्हारी रजाई ये नही, वो है, तो वह जिद करने लगी की रहने दो आप मैं तो यही सोऊंगी। पर मैने उसे घुसने नही दिया वह सर्दी से कांप रही थी, तभी रोहित ने अपनी रजाई उठाई और बोला दोनो रजाई एक जैसी ही है भाभी जी, आप यहां आ जाओ मेरी रजाई में नही तो आपको सर्दी लग जायेगी। हम सब नशे में थे तो शालू भी थोड़ी फ्रैंक हो रखी थी

तभी शालू ने गुस्सा दिखाते हुए मेरे पैरो पर एक मुक्का मारा और रोहित की रजाई में घुस कर बोला अब बैठे रहो।

फिर हम फिर से टीवी देखने का नाटक करने लगे।

थोड़ी देर बाद शालू मेरी ओर करवट बदल कर बातें करने लगी, मैं समझ गया था की इसके अब खुजली चलने लग गई है, और ये अपनी हॉट गांड रोहित की ओर करके उसे मोका दे रही है।

तभी थोड़ी सी देर बाद रोहित भी शालू के पीछे चिपकते हुए मेरी ओर मुंह करके बातें करने लगा। कुछ देर बातें करने के बाद मैने धीरे से गोर किया, की रोहित शालू के पीछे कभी कभी धक्के से मार रहा था और शालू भी अपनी गांड़ को पूरा पीछे धकेल कर सो रही थी।

थोड़ी देर यू ही चलता रहा फिर अचानक से मुझे लगा मेरी रजाई में कोई जानवर है, तो मेने रजाई जोर से झटक कर दूर फैंकी। तभी सहयोग से उनकी रजाई का एक पल्ला मेरी रजाई के ऊपर था तो वह भी आधी पलट गई और मैं देखता ही रह गया, रोहित नंगा हो चुका था और उसने अपना लंड शालू की दोनो थाइस के बीच फसा रखा था। वह इतना लंबा और मोटा था की शालू की बड़ी गांड होते हुए उसकी थाईज को पर करके करीब 2 इंच आगे निकला हुआ दिखाई दिया।

तबी मेने सॉरी कहते हुए अपनी रजाई वापस खींची और रोहित ने भी अपनी रजाई वापस ढक ली।

फिर थोड़ी देर बाद मैने लाइट बंद कर दी और कहा की तुम तो दो हो अपनी रजाई में, लेकिन मुझे तो ठंड लग रही है तो मैं तो सो रहा हु, और इतना कहने के बाद मैं रजाई में मुंह डालकर सो गया।

Dost Ki Biwi Ki Chudai

टीवी अब भी चल रही थी।

करीब आधा घंटे बाद मेने सुना की शायद कोई उठ रहा ही या हिल रहा है, तो मेने धीरे से करवट बदल कर थोड़ा सा रजाई में जगह बनाई और उन्हे देखते हुए सोने लगा। अब मेरी रजाई से मैं सब कुछ साफ साफ देख सकता था।

मेने देखा की रोहित अब शालू के पैरो की ओर मुंह करके लेट गया था और शायद शालू की चूत चाट रहा था। क्योंकि शालू की सांसे तेज तेज सुनाई दे रही थी और हल्की हल्की सिसकियां भी निकल रही थी।

फिर थोड़ी देर बाद मेने देखा तो यकीन नही हुआ अब रोहित सीधा लेट रखा था और शालू उसके ऊपर, दोनो 69 पोजीशन में थे, अब मेने देखा की शालू उसके लंड को चूस रही थी, इस बार उसका लंड पूरा देखने का मोका मिला, उसका लंड किसी घोड़े के लंड जैसा निकला, मैने कभी सपने में भी नही सोचा तो को मेरा दोस्त साला इतने बड़े लंड वाला निकलेगा।

अब मैं पछताने लगा की ये साला तो शालू की फाड़ देगा पूरी।

मैं देखता रहा, शालू के लाख बचाने के बाद भी कभी कभी उसके मुंह से लंड चूसने की आवाज निकल जाती और शालू पागलों की तरह उसका लंड चूसे जा रही थी।

हमारे 4 साल की शादी में शालू ने मेरा 5,7 बार और थोड़ी थोड़ी देर ही चूसा था। पर आज शालू करीब पिछले 10 मिनट से उसका लोड़ा चूस रही थी, कभी उसके आंड चाट रही थी।

फिर थोड़ी देर बाद रोहित ने वापस शालू की ओर मुंह किया और उसके दोनो टांगो के बीच सोता हुआ उसके बोबे चुने लगा। मुझे उनकी रजाई ऊपर उठने की वजह से थोड़ा थोड़ा दिख रहा था। बकी अंदाजा तो हो ही जाता है की कौनसी पोजीशन है।

फिर थोड़ी देर बूब्स चूसने और जोर जोर से किस्स करने की आवाज आती रही।

फिर मैने सुना की शालू ने धीरे से बोला की रोहित अब आ जाओ बस।

और फिर थोड़ी देर किस्स की आवाज आती रही फिर अचानक से शालू की एक चीख निकली और तभी शायद रोहित ने उसका मुंह अपने हाथो से दबा लिया, अब शालू की उन्हूं उन्हुं की आवाज आ रही थी, साफ साफ पता चल रहा था की वह दर्द के मारे चिला रही थी और रोहित ने उसका मुंह दबा रखा था।।

थोड़ी देर बाद शालू शांत होने लगी अब उसकी चीखने की आवाज सिसकियों में और आह आह में बदल गई, वह आह आह बाई सिसकियों की तरह धीरे धीरे ही कर रही थी ताकि मैं मुझे पता न चले।

करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद उन्होंने पोज बदला और अब उसने शालू को घोड़ी बना लिया था और खुद उसके पीछे घुटनो के बल खड़ा था।

फिर फिर से शालू की एक जोर से चीख निकली और शालू थोड़ा आगे की और खिसक गई, और अपना पिछवाड़ा नीचे करके उसकी ओर पीठ किए किए ही बैठ गई। मैं देख पा रहा था रोहित उसे पीछे से उठाकर वापस घोड़ी बनने की कोरिया कर रहा था, तभी शालू बोली नही रोहित बोहोत बड़ा है मैं मर जाऊंगी, प्लीज मैं मर जाऊंगी।

तभी रोहित ने बोला कोई ना मैं धीरे धीरे से करूंगा, मुझे उनकी फुसफुहाट और आवाजे साफ सुनाई दे रही थी।

Sex Stories About Fucking Friend’s Wife

If you like this story sex stories about fucking friend’s wife then mail us at our address mrdivored2020@gmail.com: तभी रोहित ने शालू को फिर से घोड़ी बनने की कोशिश की ओर इस बार वो वापस घोड़ी बन गई थी, फिर एक दो बार जोर जोर की आह, आउच, ओह जैसी आवाज निकली और फिर धीरे धीरे सिसकियों में बदल गई । अब शालू के पिछवाड़े पे झडके लगने दोनो के पैर टकराने की आवाज आ रही थी, तो कभी शालू की चूत से फच फ्च की आवाज आ रही थी। करीब 10 मिनट की चुदाई के बाद शालू उल्टी ही नीचे लेट गई और रोहित भी उसके ऊपर लेट के उसे छोड़ रहा था।

फिर थोड़ी देर ऐसे चुदाई चली फिर शालू वापस मिशनरी पोजीशन में लेट गई और रोहित उसकी टांगों के बीच में लेट कर चोदने लगा। फिर थोड़ी देर बाद शालू बोलने लगी की बस करो अब रोहित बस करो, और वह रोहित के गले और सीने को चूस रही थी, तभी रोहित ने अपनी भारी आवाज में एक दो बार आह आह किया और फिर एक दो जोर जोर के झटके मारे तो शालू की भी आह आह निकलने लगी और फिर रोहित वही लेट गया उसकी टांगों के बीच ही।

मैं पछता रहा थी की एक घंटा हो गया साले ने कितना चोदा है शालू को, फिर सोचा की इतना हॉट माल मिलेगा तो चुदाई तो होनी ही थी पर इतना बड़े लंड से होगी ये न सोचा था।

फिर ये सब सोचते सोचते मुझे नींद आ गई।

सुबह करीब 8 बजे नींद खुली तो किसी की सिसकियों की आवाज आ रही थी, तभी होश आया की मैं कहा हु और आखिर ये आवाज कैसी है। तो मैने तुरत खुद को संभाला और धीरे से रजाई उठा के देखा तो शालू मेरी ओर मुंह करके ही लेट रखी थी और रोहित जोर जोर से पीछे से उसे चोद रहा था, मैं चुप चाप लेता ये नजारा देखता रहा और करता भी क्या।

फिर थोड़ी देर बाद रोहित बेड के किनारे पर रजाई ओढ़ के बैठ गया और शालू को गोद में बैठाने लगा, शालू जैसे ही बैठी चीख के वापस खड़ा होना चाहती थी पर रोहित ने उसे वही पकड़ लिया और नीचे खींच कर वापस बैठा लिया, तभी शालू बोल पड़ी उई बाबा मार गई री, थोड़ी देर आह आह करने के बाद रोहित ने उसे नीचे से खूब चोदा , फिर थोड़ी देर बाद उसने शालू को नीचे उतारा और बेड पर मेरे सामने मुंह करके झुका लिया और उसे कोड़ी करके उसके पीछे लंड डाल कर चोदने लगा, शालू सिसकियों पे सिसकियां ले रही थी और आह उफ़ आह ओह कर रही थी, मुझे उसके बड़े बड़े बूब्स हिलते और दोनो बूब्स के बीच से उसकी चूत में रोहित का लंड घुसता साफ साफ दिख रहा था, और उसकी चूत पर रोहित के आंड टकराने की आवाज साफ साफ सुन रही थी।

थोड़ी देर की चुदाई के उसने दो चार जोर जोर के झटके मारे और फिर सारा माल शालू की चूत में ही डाल कर बाथरूम में चला गया,

थोड़ी देर बाद शालू भी उसके पीछे पीछे चली गई।

तभी मोका देख कर मैं भी उठ गया।

मुंह वाफेरा धोकर मैं बाहर बालकनी में बैठकर चाय ऑर्डर कर रहा था तभी दोनो लोग एक एक करके आए। तो रोहित और शालू दोनो के गले पर चूस चूस कर लाल लाल लव बाइट्स के निशान बन रखे थे। मैं क्या बोलता।

अगले 3 दिन तक यही कार्य कर्म चलता रहा। फिर 28 को जब हम दिल्ली वापस आ रहे थे तो मेने शालू से पूछा की कैसे रहा, तो शालू ने बताया की रोहित का बहुत ज्यादा बड़ा है यार, उसने चोद चोद कर मेरी हालत खराब कर दी, वह रोज रात और हर सुबह चोदता था। मेरी तो चूत फुल गई है राहुल। और लगता है अब तो तुम्हारे लंड का तो मुझे पता भी नही चलेगा।

शाम होते होते हम दिल्ली पहुंच गए, तो रोहित ने बोला की यार अब मेरा अकेले का क्या होगा आप लोग आज रात यही मेरे रूम पे रुक जाओ कल सुबह ही चले जाना।

तो मेने माना कर दिया की यार अब घर भी जाना है, तो उसने शालू से कहा की शालू यार आप ही समझाओ ना, तो मेने कहा की कमीने वो तेरी भाभी है, तो रोहित बोला नही अब तो वो मेरी भी वाइफ हो गई है। और आप दोनो को बस आज आज तो रुकना ही पड़ेगा। तभी शालू ने कहा की इतना कह रहे है तो रुक जाओ ना आज आज।

तो मुझे लगा की शायद शालू अभी भी और चुदना चाहती है।

फिर उस रात हम वही रुकने का फैसला किया। और आज रात के लिए रोहित बोदका ले आया था।

फिर हम सबने उसके रूम पे वोडका पी। खाना खा के सो रहे थे।।।तभी रोहित वहां से आया और शालू के पीछे से शालू की गर्दन पर मेरे सामने की किस्स करते हुए, पीछे से ही उसके बूब्स को दबाता हुआ बोला की यार राहुल आज आज और लेने दे ना भाभी की, मैने तो इतनी सुंदर और हॉट लड़की आज तक नही देखी। प्लीज यार आज आज और एक काम करते है आज तू भी हम ज्वाइन कर ली।

मैं सोच रहा था साला मेरी ही बीवी को मुझे ही ज्वाइन करने को बोल रहा है।

फिर उसने कहा की कपड़े उतार और इतना कहकर अपना लंड निकाला और शालू के गाल पर रगंडे लगा।

शालू भी हाथ से उसका लंड पकड़े, शर्म से मेरी और देख देखने लगी,

तब एम भी क्या करता मेने भी कपड़े उतारने शुरू कर दिए, तब तक रोहित ने शालू का मुंह पकड़ा और अपना लंड उसके होटों पे फेरते हुए उसके मुंह के अंदर डाल दिया।

शालू भी मेरे सामने ही उसका लंड चूसने लगी।

जब तक मेने कपड़े उतारे उसने रोहित के लंड को चूस कस कर लोड़ा बना दिया।

आज मेने पहली बार गोर से उसके लोड को देखा तो वह करीब 9 इंच लंबा और 3 इंच मोटा की अफ्रीकन जैसे हो गया था।

मैं बेड के पास ही खड़ा था तो रोहित ने शालू को मेरी और मुंह करके घोड़ी बनाई और एक ही झटके में लंड उसकी छाती तक घुसा दिया, शालू के मुंह से जोर की चीख निकली और आंख में आंसू आ गए। मेने बोला धीरे भाई….. तभी वह जोर जोर से चोदने लगा और अब शालू भी मेरा लंड चूसने लगी। उस रात भी उसने शालू को मेरे सामने इतना चोदा इतना चोदा की पूछो मत। करीब एक घंटे चुदने के बाद शालू बोली जान अब बस करो… मेरी गान्ड जल गई जब शालू ने उसे जान बोला तब। फिर रोहित कुछ देर चोदने के बाद शालू की चूत को अपने माल से भर दिया।

फिर जब मेरा नंबर आया तो शालू थकी पड़ी थी और मुझसे बोला की आप घर जाकर कर लेना, आज तो इसने मेरी छूट ही फाड़ दी जी।

जब मैंने उसकी चूत की तरफ देखा तो 4 दिन में रोहित ने अपने मोटे लौड़े से शालू की चिकनी चूत चोद चोद कर चारो तरफ से लाल और फूला कर कुप्पा बना दी थी।

इस तरह से मैं अपनी बीवी चुदवा का वापस लोट आया।

फिर वापस आने के बाद हम दोनो ने टेस्ट करवाया तो शालू पॉजिटिव थी। पर खुशी पता नही क्यों गम में बदल गई थी।

अब भी शालू कभी कभी दिल्ली जाने की बातें करती रहती है। रोहित का पूछती रहती है। मैं सोचता हु की ये रोहित का पिच रही है, या उसके बड़े लोड का।

खेर इसी तरह सेक्सी स्टोरीज पढ़ने के लिए ईमेल करे और बताए अपना पसंदीदा टॉपिक ऑन

कहानी कैसी लगी दोस्त की बीवी की चुदाई की कहानियाँ यह बताए हुए अपनी पसंद का टॉपिक कॉमेंट करें। Author Email: mrdivored2020@gmail.com

मेरी पिछली कहानी पढ़े : स्लीपर बस में बीवी चुदाई और प्रेग्नेंट हो गई

Submit Your Story : https://www.sexstorian.com/submit-your-story/

यह कहानी आपको कैसा लगा जरूर बताये हमारा पता है : mrdivored2020@gmail.com

4.4/5 - (72 votes)

error: Content is protected !!