Kuwari naukrani ki chudai

Kuwari Naukrani Ki Chudai

Kuwari Naukrani Ki Chudai – कुंवारी नौकरानी की चुदाई

Kuwari Naukrani Ki Chudai -सेक्सी कुंवारी नौकरानी की चुदाई. Sexstorian, Antarvasna Hindi Sex Story:

मै थोड़ा ज्यादा चुदक्कड हु ये मेरी बीवी और लड़कियां कहती है जिन्हें मै चोदता हु। ये मेरी सच्ची कहानी है जो आज से 5 साल पहले चालू हुई और तीन साल तक चली। ये बात तब चालू हुई जब मैं ट्रांसफर से एक नया जगह गया और वह 20 साल की लड़की को कम पर रखा वो सावली लेकिन सुंदर और स्लिम थी। बीवी साथ मे थी नही तो मुझे चुदास लगी तो उसे मैं मौका देखकर स्पर्श करने लगा फिर एक दिन किश कर दिया वो मुझे खुश दिखी फिर। दूसरे दिन सुबह वो जल्दी आगयी तो फिर उसे किश करके उसके दूध दबाने लगा तो वो गर्म होगयी तो सीधा उसको अपना 6 इन्च का लावड़ा पकड़ा दिया तो वो मेरा लावड़ा सहलाने लगी और मेरे लावड़ा को देखने लगी फिर उसे बिस्तर पर लिटाकर नंगी कर उसके बुर के टिट को सहलाने लगा।उसके बुर का tita थोड़ा बड़ा था वो गुद गुदी से अपने पैर चिपकाने लगी और उसका बुर गिला ।फिर सोचा अब देर नही करना चाहिए सभी पड़ोसी सोये हुए हैं और लड़की बुर के दर्द में चिल्लाये तो कोई नही सुनेगा और  फिर अपने लावड़ा पर निरोध लगा कर उसके पुदी में घुसाने लगा उसका बुर बहुत टाइट था बहुत मुश्किल से धीरे धीरे घुसाया तो वो कराहने लगी और बुर से खून आने लगा फिर उसे धीरे धीरे कि चोदने लगा थोड़े ही देर में वो अपने आप को सिकोड़ कर बुर का पानी मेरे बिस्तर पर छोड़ दी शायद थोड़ा मूत भी डाली फिर मुझे चोदने से रोकने लगी तो लावड़ा से निरोध निकाल कर उसके हाथों से घोटवा कर अपना बीज उसके बुर के ऊपर ही निकलवाया।दुसरे दिन आयी तो खुश दिखी और उस दिन भी जल्दी आयी मतलब चुदने का मन था तो उसे इस दिन  ब्लू फिल्म दिखाकर गर्म किया  ताकि लावड़ा चूसना देखे और बताया कि लावड़ा को चूसकर गिला कर बुर में लेने से बुर में दर्द नही होता तो वो लावड़ा चूसने लगी।

Kunwari Naukrani Ki Chudai

उसके लावड़ा चूसने से ये लगा कि वो पहले भी लावड़ा चूसी है भले ही वो बुर नही चुदाई थी। फिर उसे उस दिन दो बार चोदा। फिर तो ऐसा होगया की वो रोज सुबह जल्दी आकर सुबह सुबह मेरा लावड़ा चूसना चालू कर देती थी और ऐसे ही मैने एकबार उड़के मुह में झाड़ दिया तो वो पिगयीं और फिर भी लावड़ा को चुस्ती रही। फिर मैंने पूछा तो वो बताई पहले जिन अंकल के यहाँ काम करती थी वो मुझे पैसे देकर लावड़ा चूसवाते थे जब आंटी सुबह वाकिंग पर जाती थी मैं उनका बीज थूक देती थी। उन अंकल का ट्रांसफर होने पर मुझे ठीक लगा फिर कुछ दिनों बाद मुझे खुद लावड़ा चूसने का मन करने लगा। अंकल का लावड़ा तो बदबू आता था आपका तो मस्त खुसबू आता है आप धोया मत करो मैं आपका लावड़ा चूस कर साफ करूँगी और रोजआपका बीज पियउँगी। फिर वो रोज मेरा लावड़ा चूसकर बीज पीती थी और कभी कभी चुदती थी । बोलती थी कि आपका लावड़ा मोटा है मेरा पुदी दर्द करता है, बहुत मैन करेगा तो चोद लेना पर रोज मेरे मुह को चोद लिया करो। पर उसका बुर मेरी बीवी के बुर से बहुत टाइट था और बुर चोदने में बहुत मजा आता था इसलिए उसे तो हफ्ते में 3-4 बार उसे चोद लेता था। एकबार अपनी बीवी को चोद कर आया ठंडी का दिन था तो नहीं नहाया था और लावड़ा को भी नही धोया था तो बीवी की बुर का पानी लावड़ा मे लगा था। ये मेरा लावड़ा निकाल के सहलाने लगी फिर खड़ा हुआ तो चूसने के लिए मुह लगाई तो मना किया कि बीवी के बुर का पानी लगा है तो पहले लावड़ा को सूंघ कर बोली क्या मस्त खुसबू है और चूसने लगी और चूस के बीज पिगयीं। फिर बोली अब जब भी बीवी को चोद कर आते हो तो धोया मत करो उनके बुर के पानी मस्त टेस्टी है मैं चाटकर साफ करूँगी। मैं कभी सोचा नही था कि रियल लाइफ में ऐसे होसकता है की एक लड़की दूसरी की बुर का पानी चाट कर पिले पर उसे बहुत पसंद था। वो धीरे धीरे मेरा आंड चाटना चालू की फिर मेरे दोनो पैर को उठा कर उस जगह को  चाट ना चालू की जहाँ लड़कियों का बुर होता है और मेरे गांड के छेद तक जीभ से चाट ने लगी। मुझे गांड चटवा कर बहुत मजा उसने लगा।

मुझे आश्चर्य हुआ कि कम पढ़ी लिखी लड़की जिसके पास मोबाइल भी नही की ब्लू फिल्म देखे वो कहा से ये सीखी। तो उसने ये बताया कि उसका भाई दारू पीकर आता है और उसकी भाभी से अपना आंड और गांड चटवा ता है फिर उसे सुला कर उसका मुह चोदता है फिर उसके मुह में बीज गिरता है। उसकी भाभी उसके भाई का आंड और गांड चाट ते समय अपना बुर सहलाकर पानी निकालती थी। कभी कभी उसका भाई उसकी भाभी का बुर  चोद ता था। उसे शुरु में बहुत गंदा लगता था फिर उसे खुद मन करने लगा की वो भी किसी का लावड़ा आंड और गांड चाटे। जब वो दो साल बाद जब 18 कि हुई तो अंकल उसको अपना लावड़ा चुसवाने लगे शुरू में तो उसे उल्टी होने लगती थी पर धीरे धीरे पैसे के लिए वो अंकल का लावड़ा चूसने लगी। फिर बाद में अंकल उसका मुह चोद कर मुह में बीज गिराने लगे जिसे वो थूक देती थी फिर भी थोड़ा बहुत गले के नीचे चला जाता था। अंकल के ट्रांसफर के 6 महीने बाद उसे फिर लावड़ा चुसने का बहुत मन होने लगा। फिर जब मुझसे उसे मेरे घर काम करने मिलाया तो वो मेरा लावड़ा चुसने का सपना देखने लगी। इसलिए वो काम करते समयझुक कर अपना चुचे दिखती थी।

कुंवारी नौकरानी की चुदाई कामवाली को चोदा

फिर वो दिन आया जब मैं उसे चूमा तो वो रात में दो बार बुर सहला कर पानी निकली और सुबह सुबह जल्दी काम पर आगयी। वो कभी चुदवाने का नही सोची थी पर पहले ही मैं चोद कर उसका सील तोड़ दिया। आखिर 2-3 बाद ही वो मेरा लावड़ा चुसने लगी और जल्द ही बीज पुणे लगी। मेरे लावड़ा को अभी तक 8 लड़की और औरतों ने चूस उसमे से 4 लोग बीज पिये। उनमे से ये नौकरानी और एक भाभी पूरी खुशी से बीज पीती थी और मेरे लावड़ा और आंड को सौक से चाट टी थी।3 साल तक उसके साथ मज़ा किया। उस लड़की के बुर का टिट जो बाहर निकला था मस्त कमल के फूल जैसा था। उसकी गांड भी एक दो बसर चोदा।

उसके मुंह को मैं पुदी की तरह चोद कर बहुत मजा किया । मैन महसूस किया कि जितना लड़की की मुह  चोद ने में मजा आता है उतना बुर और गांड चोद ने में मज़ा नही आता। जितना चुदाई का सुख मुझे उस लड़की से मिला उतना बीवी को चोद ने में नही मिला।उस लड़की के जाने के बाद मैं और चार औरतो को लावड़ा  चूस वाया और चोदा और अभी भी दो औरतों को चोद ता हु पर उतना मज़ा नही आता जितना उस नौकरानी को लावड़ा चूसा कर आता था।उसकी शादी होगयी। मैं उसके भाभी को भी चोदा वो मैं नई कहानी में बताऊंगा।

यह कहानी आपको कैसा लगा जरूर बताये हमारा पता है : jayeshstories@gmail.com

Submit Your Story : https://www.sexstorian.com/submit-your-story/

Special thanks to Mr. Jay Sharma. Great job!

4.3/5 - (3 votes)

error: Content is protected !!