चाची की चुदाई, मामी, बुआ मौसी की चूत चुदाई की कहानियाँ – Hindi Sex Story

चाची की चुदाई, मामी, बुआ मौसी की चूत चुदाई की कहानियाँ – Hindi Sex Story

चाची की चुदाई, मामी, ताई, बुआ मौसी को चोदने की कहानियाँ
Incest Sex Stories about sex with aunty
Chachi Ki Chudai, Mausi, Mami, bua, Tayi ki Chut Chudai Ki Kahani

राज बिहार का रहने वाला हूं। यह घटनाक्रम आज से 16 साल पहले की है।तब मैं 32 साल का था, और बेरोजगार था। मैं काम धंधा ढूंढ रहा था। संयोग से एक काम मिला। और मैं प्रशिक्षण में भाग लेने चला गया गोरखपुर। मेरे पिता 4 भाई थे। छोटे वाले चाचा की मौत हो गयी थी।

उनकी पत्नी उमा जो कि 42 साल की, बड़े-बड़े चूचों वाली, और गदराई हुई औरत थी, अपने बच्चों के साथ बेतिया में अपने पिता के साथ रहती थी, और शिक्षक के तौर पर काम कर रही थी। उनके साथ मेरी कोई खास बात-चीत और नीयत भी खराब नहीं थी।

लेकिन उनको इस बात की सूचना मिल गयी, कि मैं गोरखपुर में प्रशिक्षण ले रहा था। बस फिर उनका फोन आया। मैंने बात की।

फिर वो कहने लगी: इतना नजदीक होकर आप लोग बताते नहीं है। चाचा नहीं है तो सभी लोग भूल गए?

मैंने कहा: नहीं ऐसा नहीं है।

अंत में वो आने के लिए आग्रह करने लगी। मैंने कहा: प्रशिक्षण हो जाए पूरा, तब ही आ सकेंगे।

फिर शाम को रात को बात-चीत होने लगी।7 दिन बाद 2 दिन की छुट्टी मिली। उनके साथ जब बात-चीत चल रहा थी तभी ये बताया गया, और उमा ने सुन लिया। फिर उन्होंने मुझे उनके घर आने को कहा। उन्होंने वहां से सारे रास्ते की जानकारी वगैरह दी। मैं होटल गया, सामान लिया, ट्रेन में बैठा, और गाड़ी चल पड़ी।

उनका फोन लगातार आ रहा था। वो लगातार अपडेट ले रही थी। ठंड का महीना था। रास्ते में मेरा फ़ोन बंद हो गया। फिर मैं स्टेशन पहुंचा और सोचा उनसे बात कैसे हो। फिर एक रिक्शा चालक ने बताया कि उनका घर जानता था। मैं बैठ गया रिक्शा में, और उनके घर पर पहुंच गया।

दरवाजा बंद था, और लाइट नहीं होने के चलते पूरा अंधेरा था। दरवाजा से काफी बार आवाज देने से वो आई। मुझे देख कर वो चुप-चाप दरवाजा खोलने लगी। मैंने रिक्शा चालक को पैसा देकर विदा किया, और अंदर आ गया। फिर कमरे में बैठ कर जूते खोले। बच्चे सब सो गए थे, और मोमबत्ती जल रही थी।

उन्होंने मुझे चाय लाकर दे दी, और बैठ कर अपनी आपबीती बताने लगी और साथ ही मेरे हाथ के अंगूलीयो को पकड़ कर चूम्बन करने लगी मुझे यह बहुत अच्छा लग रहा था धीरे धीरे मेरे हाथ को पकड़ कर चूमने लगी , और मुझसे चिपक-चिपक कर बात करने लगी। इस दौरान मेरा हाथ पकड़ कर चूमने लगी। मेरा लंड अब खड़ा होने लगा था। मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था। वो कभी जांघों को सहलाने लगती थी, कभी हाथों को। इतने में मुझसे पूछी-

चाची: अच्छा नहीं लगा?

मैंने कहा: ठीक है।

लेकिन मेरा लंड ठन कर लाल हो गया था। बस मैं कुछ समझूं, उससे पहले वो मुझे पकड़ कर लिपट किस करने लगी। मैं भी पूरा साथ देने लगा। मैं उनके चुची को कसकर पकड़ लिया और मिसने लगा फिर वो मेरे कपड़े उतारने लगी। मैं भी शारदा के कपड़े उतारने लगा।वो नाइटी पहनी थी और नीचे ब्रा नहीं पहनी थी, मैंने नाईटी खोल कर पेटीकोट खोल दिया , और क्या मस्त चूचे थे उनके। मैंने खड़ा कर उनके बड़े-बड़े चूतड़ों और चूची मिसने लगा और फिर उनके ओठों को चुसने लगा शारदा पुरा साथ देने लगी और अपने जीभ को मेरे जीभ से रगड़ने लगी , मैंने उनको पीछे घूमाकर उनके चूची पकड़ लिया, और उनकी चूची चूसने लगा। उनकी चूची को 5 मिनट चूसने के बाद हम दोनों पुरे जोश में आकर मैंने बिछावन पर लिटा दिया।

तब वो बोली: अब बुर चाटो।

मैं चाटने लगा। चाटते-चाटते चाची पूरा जोश में आ गई और कहने लगी: मेरे राजा, बहुत दिनों से प्यासी हूं। मेरा प्यास बुझा दो। चोद डालो आज मेरी इस चूत को।

मुझे अब उठा कर लंड को बुर में डाल कर चुदवाने लगी।

चाची: हाय जान, फाड़ दो बुर। आज से मेरा बुर तुम्हारे हवाले कर दिया है इसको इतना माल पिलाओ की हमेशा भरा रहे। आज से तुम्हारी चाची नहीं तुम्हारी पत्नी हुई और शारदा कहकर बुलाओ।

और मैं जोश में आकर ताबड़-तोड़ चुदाई करने लगा और शारदा का साथ देने लगा आज लगा रहा था कि मेरा लन्ड अब बच्चे दानी तक पहुंच गया था, शारदा ज़ोर-२ से आह अह अह…… उफ़ उफ़ उफ़ ओह ओह ओह ओह चिल्लाने लगी. मैंने २०-२५ धक्को के बाद कहा, मजा आया शारदा, तो शारदा बोली हां राजा मेरे जान आज तो तेरे से पूरी रात चूदबाउंगी, मैं भी कहाँ कम था, मैंने भी कहा आज रात मैं भी कहाँ छोड़ने बाला हु, आज मुझे जन्नत मिला है तो मजा पुरा दुगा। और फिर मैंने जोर जोर से चोदने लगा तभी शारदा बोली- जान मेरा बुर माल छोड़ रही हूँ ! और फिर वो जोर जोर से गांड उठा उठा के चुदवा रही थी और मैं भी जोर जोर से पेले जा रहा था, अचानक वो जोर से अंगड़ाई ली, और मुझे अपने में कस के पकड़ लिया, और शांत हो गई, मैंने पांच से दस झटके और मारे और मैं भी अपना पूरा माल उनके बुर में डाल दिया । पूरा माल बुर में डाल कर मैं उनके ऊपर पड़ा रहा। कुछ देर के बाद हम दोनों उठे, और पेशाब करने चले गए। दोनों साथ में बिना कपड़े के पेशाब किए। वहीं वो मेरा लंड पकड़ कर चूसने लगी। मैंने शारदा के चूची को सहलाने लगा और गर्दन पर किस करने लगा,हम दोनों एकदम से गर्म हो गए मैंने शारदा को गोद में उठा कर चुमते हुए बिछावन पर सिधा लेटा दिया और लंड उनके जांघों के बीच बुर में कसकर डालकर चोदने लगा, शारदा के बुर और लंड के लड़ाई में उनके बुर से फच्च फच्च का आवाज आने लगा, शारदा कहने लगी राजा स्वर्ग का आनंद आ रहा है और पेलो इतना पेलो की मेरा बच्चे दानी फट जाए।मैं पुरा जोश में आकर चोदने लगा शारदा ने भी पुरा साथ देने लगी,हम दोनों की आवाज़े पुरे घर में गूंज रही थी “अहाहहः और तेज और तेज .. जानू, अपनी शारदा को आज जन्नत की सैर करवा दे अहहहः आआआआअ ऊऊ एस एस ..एस …ऊऊ और १५ मिनट के बाद, मैं झड़ने वाला था और
शारदा कहती रही: जान आज पूरा माल अंदर गिराओ। बहुत दिनों से बुर प्यासी है।

इतने में उनका माल गिर गया, और वो मुझे कस कर पकड़ ली। इतने में मेरा लंड माल छोड़ दिया, जिसकी एक-एक बूंद वो बुर में ले ली। इसके कुछ देर बाद हम उठे, और वो खाना लाई। फिर दोनों साथ में खाना खाएं।

खाने के बाद हम दोनों फिर सोने चले गए। हम दोनों एक ही बिस्तर पर कंबल ओढ़े लेट गए। दोनों ने अपने-अपने कपड़े उतार दिए थे, और मैं उनकी चूची पकड़ कर लंड बुर में डाल कर सो रहा था।

शारदा बोली: राजा आज से मैं आपकी पत्नी हुई। आज जो मजा आपने दिया, वह आज तक नहीं मिला।

फिर मैंने कहा: बिना सिन्दूर और मंगलसूत्र के आप मेरी पत्नी कैसे हो सकती‌ है?

फिर वो उठी, और कपड़े पहन कर मुझे कपड़े पहनाई। इसके बाद आग का बर्तन लेकर, मेरे गमछे में साड़ी बांध कर, अग्नि का सात फेरे लिए, और सिन्दूर की डिबिया दी। फिर मैंने उनकी मांग भरी, और उन्होंने मेरे पैर पकड़ कर प्रणाम किया। मैंने उनको खड़ा करके गले लगा लिया।

फिर मैंने उनके कपड़े उतारे, और उन्होंने मेरे कपड़े उतारे, और हम दोनों एक-दूसरे को किस करने लगे। 2 मिनट बाद मैंने‌ उन्हें बिछावन पर लिटा दिया, और उनकी बुर चाटने लगा। और वो मेरा लंड चूसने लगी। तब तक दोनों पूरे जोश में आ गए।

मैं लंड निकाल कर, उनकी बुर में लंड डाल कर लगा चोदने लगा। शारदा भी पूरा जोश में पेलाई में साथ देने लगी। 5 मिनट में दोनों ने एक दूसरे के लंड और शारदा का बुर का आनंदायक चुदाई करते रहे मन कर रहा था कि लंड को बुर में डालकर रखें रहु तब तक एक साथ दोनों ने माल छोड़ा। माल जैसे-जैसे गिर रहा था मेरा, शारदा मुझे कस कर पकड़ लेती थी। पूरा माल निकलने के बाद हम दोनों वैसे ही सोए रहे।

उन 2 दिन की छुट्टियों में मैंने चाची को बहुत चोदा, और वो भी बिना कुछ बोले हर पोजिशन में मुझसे चुदती रही, बिल्कुल एक अच्छी बीवी की तरह। उन्होंने मुझे कहा-

चाची: राज बस तू ऐसे ही आके मेरी चूत की प्यास बुझ जाया कर। मैं किसी को हमारे रिश्ते के बारे में कुछ नहीं बताऊंगी। तू जब चाहे किसी भी लड़की से शादी कर लेना। लेकिन अपनी इस पहली बीवी को भूलना मत।

Submit Your Story : https://www.sexstorian.com/submit-your-story

मुझे भी चाची की चुदाई की लत लग गई थी, और मैं थोड़े ही दिनों बाद उनको चोदने चला जाता था। मेरा और चाची की चुदाई सिलसिला कई सालों तक चलता रहा।

3.8/5 - (47 votes)

error: Content is protected !!