चाची को रात में चोदा – Chachi Ki Chudai Raat Me, Hindi Sex Story

चाची को रात में चोदा – Chachi Ki Chudai Raat Me, Hindi Sex Story

आप सभी लेंड धारियों व चूत धारियों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम राहुल (बदला हुआ) है और में उत्तर प्रदेश के एक छोटे से एरिया से हूं।

अपनी कहानी भेजे : https://www.sexstorian.com/submit-your-story

यह मेरी पहली और मेरे साथ घटी सच्ची घटना आज से 3 साल पहले की है। चलिए आप का समय ना बर्बाद करते हुए मैं अपनी कहानी पर आता हूं। मेरे घर में मैं मेरे पापा मम्मी, चाचा चाची व उनके दो बच्चे रहते हैं। चाची का नाम सुमन (बदला हुआ) है।पापा एक प्राइवेट जॉब करते है और चाचा का एक बड़ा कारोबार था इसके चलते वह अपना ज्यादातर समय बाहर ही बिताते थे और सुमन चाची को समय नहीं दे पाते थे इसके चलते चाची बहुत परेशान रहती थी और उनका मन बहुत उदास रहता था। कुछ दिन पहले मेरे पापा व मम्मी नानी की तबीयत खराब हो जाने की कारण वहां चले गए और मुझे वहां जाना अच्छा नहीं लगता था इसलिए मैं नहीं गया। मैं यही अपने चाचा और चाची के पास रुक गया। अब घर मैं चाचा सुमन चाची और उनके दो बच्चे ही बचे थे। उसी शाम को आचनक चाचा को काम के चलते कही बाहर जाना पड़ा। अब घर के मैं मेरी सुमन चाची और उनके दो बच्चे बचे। मेरे मन में चाची के लिए इतने गंदे विचार नही आते थे लेकिन उस दिन चाचा के जाने के बाद में अपने दोस्तो के साथ बाहर घूम कर जब घर आया तो सुमन चाची अपने बच्चो को सुला रही थी और मैने देखा की चाची एक पतली सी पारदर्शी नाईटी पहन रखी थी। और मैने अपनी आखों पर जोर देते हुए देखा की उन्होंने अंदर से ब्रा और पैंटी पहनी थी जो उनकी चूत के मुख और बूब्स के निप्पल को ही ढक पा रहे थे। ऐसा दृश्य देखते ही मेरा लुंड खड़ा हो गया और मैने जल्दी से बाथरूम में जाकर अपनी आंख बंद करके चाची के सेक्सी शरीर को याद करते हुए मुठ मारी और बाहर आ गया और फिर हमे और चाची ने एक साथ खाना खाया और फिर में सोने के लिए जा ही रहा था की चाची ने मुझ से कहा की आज घर में कोई नहीं ही क्यों न आज तुम हमारे साथ सो जाओ तो मेने जल्दी से हा कह दिया और हम सब चाची के रूम में ही सोने चले गए वहा जाकर चाची ने मेरे लिए बेड तैयार किया और उसमे मैं लेट गया और चाची अपने बच्चो के साथ ऊपर बेड पर लेट गई। कुछ समय बाद जब मुझे नीद नही आ रही थी तो में अपने फोन पे मूवी देख रहा था की मेरी नजर चाची पर पड़ी तो वे मेरी साइड अपनी पीठ करके गहरी नींद में सो रही थे। मेरे दो तीन आवाज देने पर जब उन्होंने कोई जवाब नही दिया तो मेने देखा की चाची की नाइटी उनकी जांघ से थोड़ी ऊपर हो गई थीं तो मेने उनकी नाइटी कमर तक ऊपर कर दी और उनकी गांड़ को धीरे धीरे हाथो से टच करने लगा और मैने उनकी गांड़ छूकर ऐसा लगा कि जैसे उनकी गांड़ किसी गददे जैसी हो फिर मैंने उनकी पैंटी को थोड़ा सा खिसकाया और फिर गांड़ को सूंघा तो में उसको सूंघता ही रह गया। फिर चाची थोड़ा से हिली तो मेरी गांड़ ही फट गए और में जल्दी से अपने बिस्तान पे आकर सोने का नाटक करने लगा और कुछ समय बाद में उठा और जाकर अब उनकी चूत को सूंघा तो में उसे सूंघ कर मधुर हो गए और फिर से मेने वैसा ही किया उनकी पैंटी को उनकी चूत से थोड़ा से खिसकाया और उसको निहारने लगा और देखा की उनकी चूत में एक भी बाल नहीं थे। यह देख कर मुझे नशा सा चढ़ गया देख कर ऐसा लग रहा था जैसे सुमन चाची ने आज ही सेव किया हो यह देखते ही में उनकी चूत पर अपनी उंगली चलाने लगा और कुछ समय बाद देखा की उनकी चूत पानी छोड़ने लगी थी इससे मुझे पता चल गया कि चाची जाग रही है तो मेरी ओर हिम्मत बढ़ गए फिर मैं उनके साथ ही उनके बेड कर लेट गए और उनके बूब्स को दबाने लगा और उनके कान में कहा की मुझे पता है कि आप जाग रही हो तो फिर चाची ने अपनी आंख खोली।

चचेरी बहन की चुदाई
हनीमून सेक्स कहानी
रेलगाड़ी में चुदाई की कहानियां

बोली-में तुझ से बहुत प्यार करती हूं। आई लव यू।
मैने रिप्लाई दिया – आई लव यू टू।
सुमन चाची बोली – चलो दूसरे कमरे में चलते हैं।
मैने चाची को अपनी गोद में उठाया और दूसरे कमरे में गया और जाकर उनको बेड में पटक दिया।और उनकी ऊपर टूट पड़ा।और एक एक करके उनके सारे कपड़े उतार दिए और उनको नंगा कर दिया इस समय ये ऐसी लग रही थी जैसे भगवान ने उनको किसी फुरसत से बनाया हो को कही से नहीं लग रही थी की ये दो बच्चो की मां है। और फिर अपने भी कपड़े उतारे मेरा लुंड देखकर वह बोली की इतना बड़ा तो तेरे चाचा का भी नही है मेरा लुंड 8 इंच का है और फिर में उनके ऊपर आ गया और उनके बूब्स को दबाने लगी और नीचे उनकी चूत को अपने जीभ से निकलते पानी को चाटने लगा।
सुमन चाची बोली- मुझे भी मजा लेने देगा या खुद ही अकेले मजा लेगा।
तो फिर हम लोग 69 पोजीशन में आ गए और मेरा मुंह उनकी चूत की ओर और उनका मुंह मेरे लेंड की ओर था वो मेरा लेंड ऐसे चूस रही थी की मानो जैसे कोई लॉलीपॉप चूस रहा हो।
सुमन चाची बोली- अब रहा नही जाता अब तुम अपना इतना बड़ा लेंड मेरी चूत में डाल दो।
मैं बोला- ठीक ही मेरी चाची।
सुमन चाची बोली- मुझे चाची नही बोलो मेरा नाम लेकर मुझे बुलाओ और फिर मेरे मुंह व मेरे लिंग दोनो पर एक एक तमाचा मार दिया।
फिर मेने कहा- ठीक ही मेरी जानू सुमन रण्डी।
फिर में उठा और चाची को सीधा लिटाया और उनकी कमर के नीचे तकिया लगा दी और खुद खड़ा हो गया और फिर चाची की चूत में अपने लेंड को सेट किया और जोर दार धक्का लगाया तो उनकी चूत टाइट होने के कारण मेरा लेंड उनकी चूत में न जा सका।
सुमन चाची बोली- जाओ और किचन से जाकर सरसो के तेल की बोतल ले आओ।
में भाग कर गया और किचन से सरसो के तेल की बोतल ले आया फिर सुमन चाची ने कुछ तेल अपनी चूत में लगाया और कुछ मेरे लुंड पर लगा दिया और मेरा लुंड लेकर अपनी चूत के छेद पर सेट करते हुए मुझे धक्का लगाने को कहा मेने वैसा ही किया और मेरा आधा लुंड उनकी चूत के अंदर जा घुसा और चाची की आंख से आसू निकल आए और वे चिलाती इससे पहले मेने अपना मुंह उनके मुंह पर रख दिया और फिर कुछ देर रुकने के बाद फिर से अपने लेंड धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा फिर एक और शॉट मारा और मेरा पूरा लुंड उनकी चूत में जा घुसा फिर चाची को कुछ देर बाद मजा आने लगा और वो भी मेरा साथ गांड़ उठा कर देने लगी।

सुमन चाची- सी सी आह आह कर के बढ़िया मजे ले रही थी और कह रही थी की सेल बहन चोद ,मादरचोट, अपनी सुमन की चोट फाड़ डाल आह आह ।
मैने कहा- ले रण्डी चुद रण्डी मादरचोदी।
फिर थोड़ी देर बाद सुमन चाची का शरीर ठंडा करने लगा मुझे समझ में आ गया की वे झड़ गई है और दो से तीन शॉट के बाद में भी खाली हो गया अंदर ही और निढाल होकर उनके बगल में ही लेट गया और फिर उन्होंने मेरे लुंड को चाटा और चैट कर बिल्कुल साफ कर दिया।
सुमन चाची बोली- आज इतने दिनो बाद में पूरी शांत हुई हूं।और उस कहते ही मेने फिर से उनको किस किया और उनके और अपने पानी का मिक्सचर का स्वाद लिया और फिर नीचे जाकर चूत को चाट कर बिल्कुल साफ कर दिया।
उसके बाद चाची को में अपने सहारे बाथरूम तक ले गया क्योंकि मेरे बड़ा लेंड अंदर लेने के कारण उनसे सही से चला भी नहीं जा रहा था फिर जाकर उनको टॉयलेट सीट पर बैठाया फिर उन्होंने मूता और मेने झट से नीचे होकर उनका मूत पिया और फिर उनकी मुंह में मेने मूता और उन्होंने भी मेरा मूत पी लिया।और फिर हम बेड पर आकर नंगे ही सो गए। मेरी नींद 5 बजे के आस पास खुली जब मेरे फोन की घंटी बजी मेने अपना फोन देखा तो पापा का फोन था मेने फोन उठाया तो पापा ने बताया कि नानी की तबीयत अब सही है और हम लोग 1 घंटे ही घर आ रहे है
मैने जल्दी से चाची को उठाया और उन्हे सारी बात बताई तो फिर उसके बाद चाची ने फिर से मेरा लन्ड चूसा और मेने उनकी चूत चाटी और बूब्स पिए और फिर चाची को उनके कपड़े पहनाए और मेने भी पहन लिए और चाची को उनके कमरे में बेड तक छोड़ा और खुद अपने कमरे में आकर सोने का नाटक करने लगे।फिर कुछ देर बाद पापा और मम्मी आ गए और फिर मेने उनसे नानी का हालचाल पूछा और फिर हमारा और चाची चाची का रिश्ता सबके सामने अलग और जब कोई न हो तो पति पत्नी के जैसा। और जब से लेकर आज तक में चाची को चोदता आ रहा हूं और कुछ समय पहले चाची प्रेगनेंट हो गई ही और उन्होंने मुझे बताया के ये बच्चा मेरा ही है और में अब अपने ही बच्चे का भाई बने वाला हुं।
आप को मेरी चाची की कहानी कैसी लगी आकर कोई गलती हो गई हो तो माफ कर देना। क्योंकि में पहली बार लिख रहा हूं।

Submit Your Story : https://www.sexstorian.com/submit-your-story

आप सभी का धन्यवाद मेरी कहानी पढ़ने के लिए।

3.9/5 - (16 votes)

error: Content is protected !!