बहन के साथ सुहागदिन

हाय सभी भाइयों और भाइयों की बहनो, में इस  वेबसाइट का बहुत ही बड़ा फेन हूँ. मैने इसकी बहुत सारी स्टोरी पढ़ी है और आज में बहुत ही मुश्किल से फ़ैसला करके आप लोगों के सामने अपनी स्टोरी लिख रहा हूँ,  ये मेरी पहली स्टोरी है. ये स्टोरी मेरी एक बहुत ही दूर की कज़न बहन की है. मेरा नाम आयुष है,  में अल्कू
 शहर का रहने वाला हूँ, उम्र 21 साल है, रंग गोरा, स्मार्ट हूँ और लम्बाई 5’5 है और मेरे लंड का साइज़ 6 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है.ये स्टोरी आज से दो साल पहले की है जब में 19 साल का था. मेरे एक अंकल है (पापा के दोस्त) उनकी बेटी का नाम खुशबू है, वो और उनकी बेटी अक्सर हमारे घर आते है. एक बार वो अपनी बेटी के साथ आये हुये थे एक मिनिट, में आपको एक बात तो बताना ही भूल गया वो है,  उस लड़की के बारे में,  खुशबू की उम्र 18 साल थी, लेकिन वो दिखने में ग़ज़ब की कयामत थी, मेरा मतलब है की उसे जो भी देखता यही कहता की वो 21-22 साल से कम की नही होगी, लम्बाई 5’3, चूचि 32 कमर 26 और गांड 34.  में जब भी उसे देखता तो यही सोचता की कब इस गंगा में अपने हाथ साफ कर लूँ. तो जब वो आये,  मैने अपने छोटे भाइयों और उससे कहा चलो लूका छुपी खेलते है, फिर हम छत पर चले गये.

मेरे घर में दो छत है, हम सिर्फ़ नीचे वाली छत पर ही खेलते थे और उपर की छत पर नही. तो मैने अपने भाई को पहले कहा की तुम चोर बनो, वो मान गया और में उसे ले कर उपर की छत पर चला गया चुपके से, उपर की छत पर जनेटर रूम है, जिसमे गेट भी लगा हुआ है, मेंने उसे वहा ले जाकर गेट बंद कर दिया, फिर एक ड्रम के पीछे जहाँ बहुत कम जगह थी खड़ा कर दिया और उसके पीछे ही ज़बरदस्ती बहुत मुश्किल से खड़ा हो गया,  मैने सोचा की मौका अच्छा है आज अपनी इच्छा पूरी करने का.

हम दोनो साथ साथ खड़े हुये थे, तो मैने अपनी कमर हिलाना शुरू कर दी, उसने मुझे कहा ही भैया आप क्या कर रहे है, तो मैने कहा की गर्मी बहुत है इसलिये थोड़ा हिल रहा हूँ. क्योकी में दीवार से चिपका हुआ था. उपर से में सिर्फ़ बनियान और बरमूडा में था और वो टी-शर्ट और स्कर्ट में. फिर में अपने पूरे जिस्म का भार उस पे देने लगा. फिर उसने कहा की भैया आप क्या कर रहे है. मैने कहा की गर्मी बहुत है. फिर में धीरे धीरे उसकी चूची पर हाथ फेरने लगा, उसने कहा भैया आप क्या कर रहे है, तो मैने कहा की में देख रहा हूँ की तुम्हे गुदगुदी होती है की नही, तो उसने कहा की होती तो है लेकिन बहुत कम और सिर्फ़ खाक में तो मैने उसके हाथ उपर कर दिये और गुदगुदी करने लगा और अपना हाथ धीरे धीरे उसकी टी-शर्ट के अंदर ले जाने लगा और चूची को छूने लगा, तो उसने फिर कहा भैया क्या कर रहे है, तो मैने कहा की देख रहा हूँ गुदगुदी करके.
फिर मैने अपनी बनियान उतार के उससे कहा की मुझको देखो कितने सारे तिल है,  तुम्हे है, तो उसने कहा की हाँ मुझे भी बहुत सारे है मैने कहा की दिखाओ. और उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसकी चूचि की निपल पकड़ कर कहा की ये तुम्हारा तिल तो बहुत बड़ा है, ये है क्या और इतना बड़ा कैसे हो गया और वो भी दो दो. तो उसने कहा की वो तिल नही है और में उसके निपल को रगड़ने लगा. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, फिर मैने अपना बरमूडा उतार दिया और उसे अपने पैरो और जाँघ के तिल दिखाने लगा, फिर मैने उससे कहा अपनी जांघों के तिल दिखाने के लिये और उसकी जीन्स पर हाथ लगाने लगा,  उसने कहा भैया मुझे शर्म आती है,  मैने कहा की मैने दिखाया की नही. तो अब तुम, भी दिखाओ. और उसकी जीन्स उतार दी और उसकी जाँघ सहलाने लगा,
फिर मैने अपनी चड्डी उतार दी और उसकी भी. फिर वो मेरे लंड को बहुत ही ज्यादा घूर के देखने लगी, फिर उसने कहा की भैया ये क्या है डंडा जैसा मैने कहा की ये डंडा नही जादू की छड़ी है क्यो तुम्हारे पास नही है क्या, उसने कहा की नही तो मैने कहा की दिखाओ तुम्हारे पास क्या है, और उसकी चूत सहलाने लगा, क्या ग़ज़ब की मदहोश करने वाली चूत थी उसके एक बाल भी नही, बाल तो छोड़ो रुआ तक नही था.
फिर उसने कहा की भैया ये जादू की छड़ी क्या जादू करती है? तो मैने उससे कहा ही इसे प्यार से सहलाओ फिर ये जादू करेगा. तो वो मेरे लंड को हाथ से सहलाने लगी,  मुझको बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मेरा लंड एकदम टाइट हो गया, फिर मैने उससे कहा की ज़ोर से हिलाओ. और में उसके हाथ के उपर अपना हाथ रख कर ज़ोर से हिलाने लगा. तो 3-4 मिनिट में झड़ गया, उसे देख वो पूछने लगी की ये क्या गिरा,  मैने कहा की ये प्रसाद है जादू की छड़ी का जिसे चाटने से सेहत हमेशा अच्छी रहती है इसे चाट लो फिर उसने मेरे लंड को अपनी जीभ से चाट कर साफ किया फिर मैने उसके होठ पर किस किया और मेरा ही वीर्य उसके और मेरे मुहँ में जा रहा था.
फिर मैने सोचा इसकी चूत मारने के लिये, लेकिन जब मैने उसकी चूत में उंगली घुसाई तो हल्की सी ही उंगली घुसी थी, की उसे दर्द होने लगा, तो मैने उसे चोदा नही. आज भी वो मेरे घर आती है और हम बस ऐसे ही करते है, मगर में उसे चोदना चाहता हूँ मगर डरता हूँ की उसे कुछ हो ना जाये, या मेरे घर वालों को पता ना चल जाये.
आपको कैसी लगीं? कृपया कमेंट के माध्यम से बताएं और यदि आप भी इनके कोई रोचक किस्से जानते हों तो हमें ज़रूर भेजें.
यदि आपके पास Hindi,English में कोई article, story, essay  या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे E-mail करें. हमारी Id है:  sexstorian@gmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ  PUBLISH करेंगे. Thanks!
3.3/5 - (11 votes)

error: Content is protected !!