ऑनलाइन चुदाई की कहानियाँ

Online Hindi Sex Story : ऑनलाइन चूत चुदाई की कहानियाँ

Online Hindi Sex Story | OnlineHindiSexStory ऑनलाइन चुदाई की कहानियाँ

धन्यवाद आप लोगो का मेरी कहानी “मेरे दोस्त ने मेरी भाभी को चोदा 1 & 2” पढ़ने और कमेंट करने के लिए | मैंने लिखा था की मेरे दोस्त ने मेरी पत्नी को चोदा है तो कई लोगो ने अपने कमेंट दिया की मैंने अपनी बीबी को कैसे चुदने दिया क्यों उसे नहीं रोका|

तो मै कहानी लिखने से पहले एक बात बता दू की इस बारे में मुझे भी बाद में ही पता लगा और मेरे दोस्त ने भी मेरे से बात नहीं की थी| सब लोग एक्सपेरिएंस्ड है और जानते होंगे| जब आप सेक्स के बारे में सोचते है और करते है तो सब अच्छा लगता है | जैसे मुझे भी मेरी बीबी के चुदने का कुछ बुरा नहीं लगा और किसी को पता नहीं है की मुझे पता है तो उन्हें भी बुरा नहीं लगा| मै अब इसे एन्जॉय करता हु | तो अब मै कहानी शुरू करता हु | अगर अपने मेरी कहानी पड़ी है तो पता ही होगा की मेरे दोस्त मनीष ने मेरी भाभी और उनके दोस्त को चोदता था| इसके करीब २ साल बाद मेरी शादी हो गई और ३ साल बाद मनीष की भी शादी हो गई|

तब मनीष ने एक घर ख़रीदा था उसी में ग्राउंड फ्लोर पर मै और ऊपर मनीष रहता था |मनीष किसी एक्सपोर्ट ऑफिस में काम करता था | मै तो बता ही चूका था की मै एक ऑटोमोबाइल कंपनी में काम करता था और मेरी ड्यूटी शिफ्टों में होती थी |शादी के करीब २~३ साल बाद मनीष की बीबी ने किसी फैक्ट्री में नौकरी ज्वाइन कर लिया| उसके बाद मेरी बीबी ने भी कहना शुरू किया की वो भी जॉब करना चाहती है मैंने कई जगह बात की पर बात नहीं बनी | एक दिन मनीष मेरे घर आया हुआ था तो मेरी बीबी ने कहा भैया मेरी नौकरी लगवा दो न कही तो मनीष बोला ठीक है मै कोशिश करता हु पर नौकरी लगने के बाद स्पेशल पार्टी लूंगा तो मेरी बीबी ने चहकते हुए बोला क्यों नहीं जरूर पार्टी दूंगी|

इसके १५ दिन बाद मनीष ने मुझे फोन किया की भाभी (मेरी बीबी को मनीष भाभी कहता है ) के लिए उसने अपने ऑफिस में बात की थी और कल इंटरविउ के लिए आना पड़ेगा तो मैंने कहा ठीक है मै कल लेके आऊंगा|उस दिन मेरी दिन की शिफ्ट थी| मैंने छुटी केलिए बात की तो मेरे बॉस ने कहा की कल एक ऑडिट है तो तुम परसो छुटी ले लो| मैंने मनीष से बात की तो उसने कहा की उसके बॉस कल के बाद बाहर जा रहे है यदि कल नहीं हुआ तो फिर १०~१५ दिन बाद होगा और उन्होंने कल का टाइम दिया है| मने कहा ठीक है शाम को आके बात करता हु | शाम को मैंने अंजना( मेरी बीबी का नाम अंजना है) को बताया तो वो बहुत खुश हुई और बोली की मै मनीष भैया के साथ चली जाउंगी तुम परेशान न हो |

देर करने से क्या फायदा फिर मनीष को आवाज लगाने लगी तो मनीष और उसकी बीबी दोनों आगये सारी बाते अंजना ने मनीष को बता दी तो उसकी बीबी ने कहा की और क्या भाई साहब आप क्यों परेशान होंगे इनके साथ चली जाएँगी | फिर चाय बनी और सबने चाय पी | फिर मनीष ने कहा की भाभी अपने सारे सर्टिफिकेट एक फाइल में रख लेना | तो अंजना ने कहा की मेरे पास फाइल तो नहीं है तो मनीष ने कहा की कोई बात नहीं मेरे पास है अभी मै दे जाऊंगा | चाय पीने के बाद वो अपने घर चले गए | अंजना कल की तैयारी करने लगी | सारे सर्टिफिकेट निकाल लिया , कपडे सेलेक्ट करने लगी | मै अपने ऑडिट की तैयारी कर रहा था |

करीब आधे घंटे बाद मनीष फाइल लेकर आया और पूछा भाभी कहा है तो मै बोला अंदर रूम में तो वो रूम में चला गया बोला भाभी लाओ मै आपके सारे सर्टिफिकेट फाइल में लगा दू | फिर अंजना ने पूछा भैया कौन सा ड्रेस पह्नु कल तो वो बोला अरे भाभी आप कुछ भी पहन लो आप पर सब जचता है लेकिन थोड़ा टाइट ड्रेस पहनना तो वो बोली क्यों , वो बोला ऑफिस में लोग ज्यादा लूज़ ड्रेस नहीं पहनते वो बोली ठीक है फिर थोड़ी देर बाद वो चला गया | अंजना के बारे में थोड़ा बता दू वो भी मेरी तरह मिडिल क्लास परिवार से थी | ५’१” हाइट है ६० किलो की है | थोड़ा भरा हुआ शरीर है (जहा भरा होना चाहिए) |

वो अपनी ब्रा टाइट पहनती है जिस कारण उसकी चूचिया काफी उभरी हुई रहती है | लगभग गोरा रंग है | उसके चूतड़ बहुत बड़े नहीं पर भरे हुए है | ३८३६३२ उसका साइज है| अंदर की बताऊ तो वो अपने बाल क्लीन रखती है | अब आते है कहानी पर , दूसरे दिन मै फैक्टरी चला गया और अंजना दिन में मनीष के साथ उसकी बाइक पर उसके ऑफिस चली गयी | शाम को अंजना का फ़ोन आया की उसका सिलेक्शन हो गया है अगले महीने से ज्वाइन करना है | तब तक कुछ फ़ॉर्मेल्टी है उसे पूरा करना पड़ेगा | उसमे मडिकल भी होगा, २ साल तक माँ नहीं बनना है ये भी था | उस फॉर्म पे मेरे साइन लेके जमा करना था | शाम को मैंने फॉर्म साइन करदिया और नेक्स्ट डे फॉर्म जमा हो गया | उसके एक हप्ते बाद दिन बाद अंजना ने बताया की उसका मेडिकल भी होगया | वो मनीष के साथ हॉस्पिटल गई थी तो नर्स उसे मेरा हस्बैंड समझ कर समझा रही थी की सब ठीक है लेकिन प्रेग्नेंनसी केलिए प्रोटेक्शन जरूर करना क्यों की पहले बच्चे में प्रेग्नेंसी हटाना ठीक नहीं होता है| २ साल तक तुम्हे बचना होगा |

ये कह कर वो हसने लगी मै भी हसने लगा | थोड़ी देर बाद मनीष आया और बोला बधाई हो राज अंजना को अब नौकरी मिल गई | और अंजना से बोला अब पार्टी कब देंगी तो वो बोली पहली सेलरी पर | तो मनीष बोला पर मुझे तो स्पेशल पार्टी चाहिए क्यों राज तब मैंने बोला हा हा क्यों नहीं तुम जब चाहे ले लेना |और हम सब हसने लगे फिर अंजना ने चाय पेश किया सबने चाय पी और थोड़ी देर गपशप केबाद मनीष चला गया | उस रात को मैंने सोचा की मनीष जरूर अंजना पर लाइन मरेगा तो क्या अंजना मान जाये गी | ये सोच कर मै बहुत उत्तेजित हो गया और सोती हुई अंजना को जगा के सेक्स किया लेकिन मै ये सोचता ही रहा की मुझे कैसे पता चलेगा | तब मैंने घर की हर खिड़की और दरवाजे में ऐसा अरेंजमेंट किया की अगर बाहर से चाहे और पता हो तो अंदर देख सकता है स्पेशली पीछे साइड से बेड रूम में |

मेरा घर ग्राउंड फ्लोर पे था तो ये आसान था | अब मै नजर रखने लगा | महीने बाद अंजना ने ज्वाइन कर लिया और अधिकतर मनीष के साथ ही जाती थी | अंजना को ज्वाइन किये हुए लगभग ८ महीने हो गए थे | मै घर सुबह की सिफ्ट में ४ बजे तक आता था और अंजना ६ बजे तक आती थी| एक दिन मैंने देखा की अंजना मनीष के साथ बाइक पे ऐसे बैठी है की उसके चूचिया मनीष के पीठ में लग रही थी|मैंने सोचा की ये तो रोज होता होगा और मनीष एन्जोइ करता होगा फिर मै पीछे से बाहर चला गया और छुप गया की देखु क्या होता है | अंजना अंदर आयी और देखा की मै हु नहीं तो मुझे फ़ोन करने लगी मैंने फ़ोन साइलेंट पर कर दिया और मैसेज कर दिया की मै रात में आऊंगा शाम की सिफ्ट भी करनी पड़ रही है |

ये देख कर वो अपने कपडे चेंज करने लगी और कुछ गुनगुना रही थी | इस समय वो गजब की लग रही थी ऐसा लग रहा था की मै पहली बार नंगी देख रहा था देख रहा था तभी उसका फ़ोन बजा तो उसने फ़ोन को स्पीकर पे डाल कर कपडे चेंज करने लगी | फ़ोन पर मनीष था बोला अंजना राज है तो वो बोली राज तो देर से आएगा तो वो बोला तुम क्या कर रही हो तो वो बोली कपडे बदल रही हु | तो वो मजाक में बोला अच्छा तो नंगी हो तब अंजना गुसाते हुए बोली लड़कीओ के साथ रहते रहते तुम शैतान हो गए हो बोलो फोन क्यों किया तो बोला मै अपने स्पेशल पार्टी के बारे में पूछ रहा था कब दोगी तो अंजना बोली मुझे पता है तुम्हारी स्पेशल पार्टी का क्या मतलब है उसे भूल जाओ | तो मनीष बोला अच्छा चलो आज चाय तो पिला दो रचना आज घर पे नहीं नहीं है |

रचना मनीष की बीबी का नाम है | आजाओ फिर अंजना ने कहा तभी मनीष ने कहा अच्छा कपडे मत पहनना मै आ रहा हु और फ़ोन काट दिया | अंजना हस्ते हुए बोली शैतान कही का और कपडे पहने लगी | अब मै समझ गया की मनीष ने अपना जादू चलाना शुरू करदिया है नहीं तो ये बाते कोई लेडी कैसे सुन लेती | तभी मैंने देखा अंजना ने अपने कपडे निकाल कर दूसरे कपडे पहने लगी तभी बेल बजा तो अंजना ने बोला आ रही हु रुको जरा और कपडे पहन कर दरवाजा खोल दिया बाहर मनीष खड़ा था | मनीष ने अंदर आते हुए पूछा बुरा तो नहीं मान गई तो अंजना ने मुस्कुराते हुए बोला तुम्हारे बारे में पता है की लड़कियों को बहुत तंग करते हो | किसने बताया आपको मनीष ने पूछा , छोड़ो चलो चाय पियो ये कह कर अंजना ने चाय और बिस्किट लायी फिर दोनों चाय पीने लगे | कैसा लग रहा है ऑफिस में मनीष ने पूछा ,

बहुत अच्छा अंजना ने जवाब दिया | तुम्हारी वजह से मेरा भी समय अच्छे से कट जाता है मनीष ने कहा | जानती हो भाभी ऑफिस में आप सबसे खूबसूरत लेडी हो मनीष ने कहा, मजाक मत उड़ाओ मेरा अंजना ने कहा नहीं भाभी सच कहते हुए मनीष अंजना के करीब आ गया | भाभी ये कपडे…. मनीष ने कहा हा हा वही है जो तुमने दिए थे अंजना ने कहा | पर मैंने २ और दिए थे वो नहीं दिख रहे है मनीष ने कहा, अंजना ने एक हलका थप्पड़ लगाते हुए बोला अच्छा वो भी देखना है बहुत शरारत सूझ रही है| मै समझ गया वो ब्रा और पैंटी के बारे में कह रहा है | मै सोचने लगा 8 ही महीने में कितने आगे निकल गए दोनों |

अब पक्का था की मनीष जल्दी ही अंजना को चोदेगा | चाय ख़तम हो गई और अंजना चाय के बर्तन उठा के अंदर जाने लगी तो मनीष उठा और पूछा मेरी पार्टी कब मिलेगी | अंजना ने कुछ नहीं बोला और चली गई तो मनीष ने अपने आदत के अनुसार लैंड सहलाते हुए बोला आज भी हो सकता है | लेकिन अंजना ने कोई जवाब नहीं दिया तो वो भी अंदर चला गया| अब वो मुझे दिखाई तो नहीं दे रहे थे पर आवाज सुनाई दे रही थी क्या हुआ जबाब नहीं देरही हो क्या जबाव दू मै शादी शुदा हु कैसे ये हो सकता है अरे भाभी मै तो मजाक कर रहा था तुम तो सिरियस हो गई मनीष ने कहा अच्छा बाइक पर तो पकड़ के बैठा करो | क्या कह रहे हो लोग देखेंगे तो क्या कहेंगे अब मै सोच रही हु ऑटो से जाया करू कभी कभी तुम्हारे साथ जाउंगी |

अच्छा जैसा तुम ठीक समझो मनीष ने कहा और चला गया | अंजना दरवाजा बंद करके बेड रूम में जाकर कपडे निकल कर नाइटी पहने लगी लेकिन अंदर कुछ नहीं पहना इस समय मेरी इच्छा हो रही थी की अभी जाकर चोद दू पर मज़बूरी थी | अंजना भी कुछ नार्मल नहीं थी शायद मनीष का डिमांड उस पर असर कर रहा था | वो अपने चूची सहला रही थी और कुछ सोच रही थी | फिर उठ के किचन में चली गई | अब मै भी उठा और बाहर निकल गया | मै १० बज के आसपास घर आगया दरवाजा अंजना ने खोला मै अंदर आ के दरवाजा बंद होते ही अंजना को अपनी बाहों में लेकर किश करने लगा तो अंजना बोली क्या बात है आज बड़े रोमांटिक लग रहे तो लेकिन आज कुछ नहीं मिलेगा मैंने पूछा क्यों तो बोली मंथली चल रहा है | मै समझ गया इसीलिए आज मनीष को खाली हाथ जाना पड़ा |

कहानी कैसी लगी बिस्तार से बताइयेगा | मेरा mail id है raj67003@gmail.com.